अलग-अलग मौसमों में घर का निर्माण करना

क्या आप घर बनाने की योजना बना रहे हैं? क्या आपने अपने क्षेत्र की जलवायु पर विचार किया है? अगर नहीं, तो कृपया करिए! क्योंकि सुरक्षित और स्थिर निर्माण सुनिश्चित करने के लिए जलवायु परिस्थितियों का अनुकूल होना महत्वपूर्ण है। हमारे देश में, हमारे पास अलग - अलग जलवायु क्षेत्र हैं, और प्रत्येक जलवायु की विशिष्ट मांग का अपना ही सेट होता है। यानी आप सर्दियों के क्षेत्र में किस गर्म जलवायु के अनुसार अपने निर्माण की योजना नहीं बना सकते।

गर्म और शुष्क क्षेत्रों में :

- सूरज की रोशनी घर को गर्म करती है। इसलिए, छत को पेंट करना, और गर्मी - वापस फेंकने वाले पेंट से पलस्तर करना आपको गर्मी के अवशोषण को कम करने में मदद कर सकता है

- मुख्य द्वार उत्तर - दक्षिण दिशा की ओर होना चाहिए। अधिक धूप से बचने के लिए, पश्चिम की ओर मुंह करके दरवाजे और खिड़कियां बनाने से बचें

- खोखले कंक्रीट ब्लॉक बेहतर इन्सुलेशन प्रदान करते हैं, जो घर के अंदर तापमान को नियंत्रित करने में मदद करता है

- वेंटिलेशन और क्रॉस वेंटिलेशन सिस्टम को ध्यान से बनाना याद रखें

उच्च वर्षा वाले क्षेत्रों में :

- दरवाजे और खिड़कियों पर लिंटेल बीम बनाएँ

- ढलान वाली छत डिजाइन करें ताकि पानी आसानी से बह जाए

- अपने घर की संरचना को वाटरप्रूफ बनाएँ

ठंडी जगहों पर :

- अपने घर में सूरज की गर्म रोशनी आने देने के लिए उत्तर और पश्चिम में दरवाजे बनाएँ

- खिड़कियां, दरवाजे और फर्श का निर्माण करते समय अच्छी इन्सुलेट सामग्री का उपयोग करें

अलग - अलग जलवायु परिस्थितियों में घर बनाने के ये कुछ सुझाव थे।

अधिक एक्सपर्ट होम बिल्डिंग सोल्युशस और टिप्स के लिए, अल्ट्राटेक सीमेंट #बातघरकी को फॉलो करते रहें

संपर्क करें

अपने प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करें

एक वैध नाम दर्ज करें
एक वैध नंबर दर्ज करें
एक वैध पिनकोड दर्ज करें
एक वैध केटेगरी चुनें
एक वैध सब केटेगरी दर्ज करें

यह फॉर्म सबमिट करने के द्वारा आप अल्ट्राटेक सीमेंट को आपसे संपर्क करने के लिए अधिकृत करते हैं।

आगे बढ़ने के लिए कृपया इस बॉक्स को टिक करें